Management Message

अध्यक्ष, विद्यालय प्रबन्ध समिति

शंकर लाल धानुका उच्च माध्यमिक आदर्श विद्या मंदिर जैसे आवासीय विद्यालय की सार्थकता बालक के सर्वांगीण विकास में ही निहित है। बालकों की अन्तर्निहित प्रतिभा का बहुमुखी प्राकट्य इस प्रकार से हो कि वह एक आत्मविश्वासी,आत्मसंयमी स्वावलम्बी एवं राष्ट्रभक्ति से ओत -प्रोत नागरिक बने। समाज की प्रगति में सहयोगी ,राष्ट्र के प्रति समर्पित हो। इन सभी गुणों का बालक में समावेश अपनी प्राचीन गुरुकुल पद्धति से ही सम्भव है। बालक व गुरु का निरन्तर सम्पर्क, विद्यालय की दैनिक अनुशासित एवं संस्कारक्षम दिनचर्या से उसका शारीरिक, मानसिक, नैतिक, आध्यात्मिक व शैक्षिक विकास ऐसे आवासीय विद्यालय में ही पूर्णरूप से होना सम्भव है। इन्हीं उद्देश्यो की पूर्ति हेतु शंकर लाल धानुका विद्यालय समाज के सह्रदय सहयोग से निरन्तर प्रयासरत है।
बाबू लाल गुप्ता

मंत्री, विद्यालय प्रबन्ध समिति

संतान का योग्य होना ही हमारे परिवार व राष्ट्र के विकास का प्रमुख आधार है। इसीलिए सभी माता- पिताओ, का चिन्तन अपने बच्चों को अधिक से अधिक योग्य बनाने का होता है। योग्यता प्रमुखतः सुशिक्षा से प्राप्त होती है। शिक्षा वही श्रेष्ठ है जो सुसंस्कारों से युक्त हो। सुसंस्कार अनुशासन एवं समयबद्ध दिनचर्या से ही सहजता से प्राप्त होते हैं । इसी लक्ष्य की प्राप्ति हेतु इस विद्यालय की स्थापना की गई है। हमारा प्रयास रहता है कि बालक को ब्रह्ममुहूर्त से लेकर रात्रि को दीपविसर्जन तक एक अनुशासित एवं संस्कारक्षम दिनचर्या से गुजारा जाय। संस्कारो से परिपूरित शिक्षा प्रदान करने के अपने इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए ही हम सतत आपके सहयोग से प्रत्यनशील हैं।
डॉ.नन्द सिंह नरुका

×